‘बदलती मीडिया’

180129-BAIT-174-RajasthanBadalteMahaulMeinMedia (7)

By Urmila Gupta, Official Zee Jaipur Literature Festival Blogger   ज़ी जयपुर साहित्योत्सव के पांचवें दिन ‘राजस्थान बदलते माहौल में मीडिया’ सत्र में बदलते माहौल और उसके मीडिया पर पड़ते प्रभाव पर चर्चा हुई| ये बदलाव समाज की वजह से मीडिया में आया है या मीडिया ने समाज को बदलने में कोई भूमिका निभाई है?… Read more »

गंगा को ये क्या हुआ!

180128-BAIT-122-RiverOfLife (4)

By- Aditya Narayan, Official blogger Jaipur literature festival आज़ादी के बाद से गंगा सफाई के नाम पर ना जाने कितना कुछ कहा गया है और कितना कुछ किया गया है| पर इन सब के बावजूद धरातली सच्चाई आज भी वही की वही बनी हुई है और अगर साफ़ तौर पर कहें तो पहले के मुकाबले… Read more »

‘आफरीन, आफरीन’

180128-BAIT-116-AfreenAfreen (2)

Afreen, Afreen  Rakshanda Jalil and Sukrita Paul Kumar By Urmila Gupta, Official Zee Jaipur Literature Festival Blogger ज़ी जयपुर साहित्योत्सव के चौथे दिन “आफरीन, आफरीन” सत्र में रक्षंदा जलील और सुकृता पॉल कुमार ने श्रोताओं को संबोधित किया| ‘आफरीन’ का अर्थ खूबसूरत होता है| पर पता नहीं कैसे सत्र का नाम प्रोग्राम शेड्यूल पर पढ़ते… Read more »

Globe to Globe: Why Hamlet Works in Every Country of the World

180127-BAIT-104-GlobeToGlobe (6)

Dominic Dromgoole in conversation with Tom Stoppard By Bhavika Bhuwalka, Official ZEE Jaipur Literature Festival Blogger   In 2014, Dominic Dromgoole, former Artistic Director of the Globe Theatre in London, undertook a journey to take Hamlet to every country in the world. The journey, a wildly ambitious expedition that took the entire theatre world by… Read more »

ये जो इतिहास है…

180127-BAIT-085-ItihasTranslatingHistoricalFiction (2)

By Urmila Gupta, Official Zee Jaipur Literature Festival Blogger ज़ी जयपुर साहित्योत्सव के तीसरे दिन “इतिहास : ट्रांसलेटिंग हिस्टोरिकल फिक्शन” ने ‘इतिहास कल्पना’ की श्रेणी पर कई सवालों का जवाब ढूंढने की कोशिश की| सत्र में चर्चा के लिए मौजूद थे अभिजीत कोठारी, रीटा कोठारी और विक्रांत पांडे, जिनके साथ चर्चा की त्रिदिप सुहृद ने|… Read more »

गांधी: अद्भुत व्यक्तित्व, अनजाने पहलू

180126-BAIT-042-LettersToGandhi (2)

By:  DevendraUpadhyay, OfficialZEE Jaipur Literature Festival Blogger   जयपुर साहित्योत्सव के दूसरे दिन बैठक हॉल में गांधी पर लिखने व रिसर्च करने वाले सर्वाधिक प्रसिद्ध लोगों में शुमार लेखक तृदीप सुहृद से लेखिका रीता कोठारी ने ‘लेटर टू गांधी’ विषय पर काफी अनसुलझे सवालों के जवाब खोजने की कोशिश की। चर्चा की शुरुआत करते हुये… Read more »

मोहनजोदड़ो या मोअन जोदड़( मरे हुए का टीला)

180125-BAIT-030-RiddlesOfThePast (3)

By Aditya Narayan, Official blogger Zee Jaipur literature festival.   वैदिक सभ्यता, मोहनजोदड़ो की सभ्यता, हड़प्पा की सभ्यता या सिन्धु घाटी की सभ्यता, समय समय पर विश्व की इस सबसे बड़ी और समृद्ध सभ्यता का नाम बदलता रहा है| विश्व पटल पर हमेशा चर्चा का विषय रहे इस सभ्यता के आज भी बहुत सारे प्रश्न… Read more »

शाम-ए-सटायर

180125-BAIT-005-HassoHassoPhirHaso (1)

By Aditya Narayan, Official blogger Zee Jiapur Literature Festvial. “आजकल आदमी सात तत्वों से बनता है, जल, वायु, पृथ्वी , आकाश, अग्नि के अलावा आधार और पैन कार्ड से| और इनको जो बनाता है वो है नेता| पर हाँ नेता जितने देश के काम नहीं आते उतने व्यंगकार के काम आते हैं|” हरिशंकर परसाई, शरद… Read more »

Passage to America

blog-image-2-resized

Raja Mohan, Devesh Kapur, Hardeep Singh Puri, Shivshankar Menon and Robert Blackwill in conversation with Jyoti Malhotra   By Sitamsini Cherukumalli, Official ZEE Literature Festival Blogger   ‘International Politics don’t work on the basis of trust,’ remarked C. Raja Mohan, Director of Carnegie India, and acclaimed foreign policy analyst. Today’s talk took place under the… Read more »