Bayan: In Testimony

180127-DURB-086-BayanInTestimony (1)

Chitra Mudgal in conversation with Nand Bhardwaj By Devendra Upadhyay, OfficialZEE Jaipur Literature Festival Blogger We Too पिछले वर्ष #Me Too ने समूचे विश्व को झकझोर कर रख दिया था परंतु हम यहाँ उस विषय की बात नही कर रहे। जिस WeToo की बात मैं कर रहा हूँ वो विषय भी शायद गंभीरता में उतना… Read more »

Interview with Ashwin Sanghi

By Hemal Thakker, Official ZEE Jaipur Literature Festival Blogger   Best-selling Indian author Ashwin Sanghi was at the ZEE Jaipur Literature Festival today, to discuss his latest novel, Keepers of the Kalachakra with Shashi Tharoor. How was your interest in the historical thriller genre sparked? “My interest was basically cutting through philosophy, history, mythology and… Read more »

The Yuva Ekta Foundation Performance and Audience Discussion

IMG_4079

AU Bank Samvad   28th January, 12.30pm The Yuva Ekta Foundation has returned to the city of Jaipur for the 11th consecutive year to curate and facilitate the Youth Outreach Program at the Zee Jaipur Literature Festival. The Jaipur Literature Festival celebrates the ideas enshrined by the freedom of expression. For years now, it has… Read more »

‘वाद-विवाद-संवाद’

180126-FRON-065-RepublicOfRhetoric- (6)

By Urmila Gupta, Official Zee Jaipur Literature Festival Blogger   26 जनवरी, ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे दिन का समापन Republic of Rhetoric: Free Speech in India सत्र से हुआ| ‘वाक्पटुता’ के इस गणतंत्र में हर कोई अपने हिसाब से चीजों को मरोड़ रहा है| ‘रसोई में क्या पकेगा’ से लेकर ‘फिल्म रिलीज’, ‘क्या… Read more »

Rashmi Bansal’s Interview

रश्मि बंसल एक लेखिका, उद्यमी और प्रेरक वक्ता हैं| उधमिता पर उनकी 8 सफल किताबें प्रकाशित हैं – स्टे हंगरी स्टे फूलिश, कनेक्ट द डॉट्स, आई हेव ए ड्रीम, पूअर लिटल रिच स्लम, फोलो एवरी रेनबो, टेक मी होम, अराइज, अवेक और गोडस ओन किचन – जो 12 भाषाओँ में अनूदित हैं और उनकी लाखों… Read more »

Un-Well Done Abba

180126-DURB-062-TheVanishingStepwellsOfIndia (2)

By Devendra Upadhyay, OfficialZEE Jaipur Literature Festival Blogger श्याम बेनेगल निर्देशित राष्ट्रीय पुस्कार विजेता फिल्म Well Done Abba के अंत में बोमन ईरानी जब अपनी बावड़ी बनाने में सफल हो जाते हैं तो उनकी बेटी की प्रतिक्रिया ही फिल्म का शीर्षक बन जाती है, परन्तु वर्तमान में हमारे देश में जिस तरह से बावड़ियां, कुएँ… Read more »

साहित्य की भूमिका समाज निर्माण में

By- Aditya Narayan, Official blogger Jaipur literature Festival   साहित्य समाज का आईना होता है| प्रेमचंद से लेकर परसाई ने अपनी कलम समाज और राजनीति को सही राह पर लाने का काम किया है|  प्रेमचंद की लेखनी जहाँ आज भी हमारे गाँवों को तथा उसकी परंपरा को समझने का सबसे प्रमाणिक माध्यम है वहीँ भारतीय… Read more »

Interview with Julia Donaldson

Julia Donaldson is one of the world’s most popular authors for children. In Britain, she is in fact the fourth best-selling writer of all time, with sales of her illustrated stories, including favourites such as The Gruffalo, and Stick Man, outselling even J K Rowling. Donaldson is on an 11 day tour of India and… Read more »

इतिहास से मिटे अक्षर

180127-DURB-080-ATaleOfTwoCourts (2)

कल के सफ़ेद पन्नो पर लिखे काले अक्षर आज का इतिहास है| कल को जन्मा एक साधारण सा बालक आज इतिहास का एक प्रतापी सम्राट है| कल जिसकी क्रूरता के चर्चे दहशत का पर्याय थे आज उसके योद्धा होने के प्रमाण विलुप्त हो चुके गाँवों और शमशान बन चुके शहरों में है| सदियों से कल… Read more »

Adaptations

180127-FRON-090-Adaptations (7)

Amy Tan, Michael Ondaatje, Mira Nair, Nicholas Shakespeare and Tom Stoppard in conversation with Chiki Sarkar By Medhavi Dhyani, Official ZEE Literature Festival Blogger Five of the most eminent novelists and screenwriters of contemporary times gathered to reflect upon one of the most persistent questions in the creation and recreation of art: cinematic adaptations of… Read more »

Language, Identity and Translation

180125-HAVE-JBM-04-LanguageIdentityAndTranslation (9)

Anna Cecilia Moulton, Annie Montaut, Elin Haf Gruffydd Jones, Han Yujoo, Mridula Nath Chakroborty and Tara June Winch in conversation with Sudeep Sen by Archita Mittra, Official Zee Jaipur Literature Festival Blogger Is every language system a universe in itself? How much of one’s identity is linked to the culture one is born into, or… Read more »

ये जो इतिहास है…

180127-BAIT-085-ItihasTranslatingHistoricalFiction (2)

By Urmila Gupta, Official Zee Jaipur Literature Festival Blogger ज़ी जयपुर साहित्योत्सव के तीसरे दिन “इतिहास : ट्रांसलेटिंग हिस्टोरिकल फिक्शन” ने ‘इतिहास कल्पना’ की श्रेणी पर कई सवालों का जवाब ढूंढने की कोशिश की| सत्र में चर्चा के लिए मौजूद थे अभिजीत कोठारी, रीटा कोठारी और विक्रांत पांडे, जिनके साथ चर्चा की त्रिदिप सुहृद ने|… Read more »